वॉलमार्ट ने ख़रीदा फ्लिपकार्ट को ₹1 लाख करोड़ में

0
168

अमेरिकी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट (Walmart) ने भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट (Flipkart) में बड़ी हिस्‍सेदारी खरीद ली है. 16 अरब डॉलर (1 लाख करोड़ रुपये) में Flipkart-Walmart डील हुई है. वॉल्मार्ट ने भारतीय कंपनी में 77 फीसदी हिस्‍सेदारी खरीदी है. वॉल्मार्ट की ओर से इस बात की पुष्टि हो गई है. फ्लिपकार्ट में हिस्‍सेदारी रखने वाले जापानी ग्रुप सॉफ्टबैंक के सीईओ मासायोशी सोन ने भी इसकी पुष्टी की.मार्केट रिसर्च कंपनी फॉरेस्टर के मुताबिक भारत में ई-कॉमर्स की बिक्री पिछले साल 21 बिलियन डॉलर हो गई थी, और उम्मीद है कि 1.25 अरब लोगों से अधिक की आबादी और इंटरनेट एक्सेस का उपयोग करेगी.

Walmart ने Flipkart को क्यों खरीदा

>> एक्सपर्ट्स के मुताबिक वॉल्मार्ट अमेरि‍का और दूसरे देशों में अमेजन को टक्‍कर देने का रास्‍ता ढूंढ रही है.
>> ऑनलाइन सेल्‍स को बढ़ाने के लि‍ए वॉलमार्ट अमेरि‍का में हुए हालि‍या जेट.कॉम डील और चीन में जेडी.कॉम के साथ हुई डील से आगे नि‍कलना चाहती है
>> भारत में वॉलमार्ट को रेग्‍युलेशन के कारण मुश्‍कि‍लों का सामना करना पड़ रहा है और फ्लि‍पकार्ट में इन्‍वेस्‍टमेंट उसे ऑनलाइन रि‍टेल मार्केट में बड़ी जगह दे देगा.
>> बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच की रि‍पोर्ट में कहा गया है कि‍ 43 फीसदी से ज्‍यादा मार्केट शेयर के साथ फ्लि‍पकार्ट मार्केट लीडर है.
>>उन्‍होंने अनुमान लगाया है कि‍ 2019 में फ्लि‍पकार्ट 44 फीसदी शेयर कायम रखने में सफल रहेगी.
>>वहीं, अमेजन का मार्केट शेयर 37 फीसदी और स्‍नैपडील का मार्केट शेयर मात्र 9 फीसदी रह जाएगा.

फ्लिपकार्ट की स्थापना साल 2007 में अमेजन के पूर्व कर्मचारियों सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने की थी. अमेज़ॅन की तरह यह एक ऑनलाइन बुकस्टोर के रूप में शुरू हुआ था. फ्लिपकार्ट अब जूते, सोफा और सौंदर्य उत्पादों को चलाने के लिए मोबाइल फोन, टेलीविजन समेत बहुत कुछ बेचता है.

वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट के करार पर टैक्स का पेंच फंस सकता है. सीएनबीसी आवाज के सूत्रों के मुताबिक इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कंपनी को ईमेल भेजकर कहा है कि संपत्ति भारत में है, इसलिए टैक्स की देनदारी बनती है. इसके लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने आईटी एक्ट के सेक्शन 9 (1) (i) का हवाला दिया है, जिसके मुताबिक भारत में मौजूद संपत्ति का सौदा होगा, इसलिए विदहोल्डिंग टैक्स लगेगा. विदेशी भी भारत में मौजूद संपत्ति का सौदा करे तो ये टैक्स लगेगा. आईटी विभाग ने ये भी कहा है कि अगर इस डील में टैक्स की देनदारी पर कोई संदेह हो तो उससे संपर्क करे. आपको बता दें कि इस डील में 10-20 फीसदी तक विदहोल्डिंग टैक्स लग सकता है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें। |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here